मंथन

मंथन

278 Views
MRP : ₹200.00
Price : ₹114.00
You will save : ₹86.00 after 43% Discount
Inclusive of all taxes
INSTANT delivery: Read it now on your device

Buy Ebook₹114.00 Rental Ebook Up to 72% Off

Save extra with 2 Offers

Get ₹ 50

Instant Cashback on the purchase of ₹ 400 or above
SAFE5 Already Applied

Product Specifications

Publisher Rigi Publication All Hindi books by Rigi Publication
ISBN 9789391041113
Author: Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
Number of Pages 71
Edition First Edition
Available
Available in all digital devices
  • Snapshot
  • About the book
मंथन - Page 1 मंथन - Page 2 मंथन - Page 3 मंथन - Page 4 मंथन - Page 5

मंथन by Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
Book Summary:

य मानव स्वभाव जिज्ञासु है और ईश्वर रहस्य।उसके समस्त क्रियाकलाप अत्यंत सरल, सामान्य तथा समयबद्ध, सुचारू और नियमित हैं।मगर ये सब कार्य करने के लिए क्या उसके हजारों हाथ तथा सैंकड़ों आँखे हैं? बच्चे बनाने की उसकी फैक्टरी कितनी बड़ी है।तमाम रहस्य आदिकाल से मनुष्य की जिज्ञासा को बढाते रहे हैं।मनुष्य ने उसे खोजने पाने का आदिकाल से ही प्रयास किया है।

Audience of the Book :
This book Useful for General Reading.