• स्वच्छ भारत : सशक्त भारत
33% Off

स्वच्छ भारत : सशक्त भारत

By Mahesh Sharma more
252 Views
Selling Price : ₹270.00
MRP : ₹400.00
You will save : ₹130.00 after 33% Discount

Enter your email id to read this ebook
Submit
Terms and Conditions
×
  • 1. Pay with PayPal and get 100% cashback up to Rs. 400 on your eligible purchases. You will need to transact for a minimum value of Rs. 100 to be eligible for the offer.
  • 2. Offer is valid only for first time users/ first ever PayPal transaction in lifetime and can be availed once per PayPal user.
  • 3. Offer is valid for transactions through your PayPal India account.
  • 4. Cashback will be credited in user’s PayPal account, within 5 days after successful transaction with PayPal.
  • 5. Offer period is valid upto 31/10/2019.
  • 6. The cashback will be in the form a discount.
  • 7. Please see the Terms and Conditions for details.

Save extra with 3 Offers

Get ₹ 50

Instant Cashback on the purchase of ₹ 400 or above
SAVE10 Already Applied

NEW35

Get Flat 35% Off on your First Order

Product Specifications

Publisher Prabhat Prakashan All M.A - Master of Arts books by Prabhat Prakashan
ISBN 9789383110346
Author: Mahesh Sharma
Available
Available in all digital devices
  • Snapshot
  • About the book

स्वच्छ भारत : सशक्त भारत by Mahesh Sharma
Book Summary:

स्वच्छता जीवन में उतनी ही महत्त्वपूर्ण है, जितनी जीवित रहने के लिए भोजन; लेकिन हम स्वच्छता के प्रति कितने गंभीर हैं, यह किसी से छिपा नहीं है। इसका एक कारण सशक्ति कानून का अभाव भी है। गांधीजी ने स्वच्छता के प्रति हमारे देशवासियों की उदासीनता को आरंभ में ही भाँप लिया था और यही कारण था कि वे अपने हर विचार में लोगों को स्वच्छता के लिए प्रेरित करते रहते थे। उन्होंने तो यहाँ तक कह दिया था कि ‘‘स्वच्छता स्वतंत्रता से ज्यादा महत्त्वपूर्ण है।’’ गांधीजी का कहना था कि जब तक हम बाहरी स्वच्छता नहीं अपनाते, भीतरी स्वच्छता की कल्पना तक नहीं की जा सकती। और बाहरी स्वच्छता आचरण में आते ही भीतरी स्वच्छता स्वतः आ जाती है। वर्तमान परिवेश में इन दोनों प्रकार की स्वच्छता की बड़ी आवश्यकता है और गांधी एक बार फिर मार्गदर्शक के रूप में हमारे सामने हैं। जरूरत है तो बस सच्चे मन से उनके विचारों के अनुसरण की।सुधी पाठक ही नहीं, आबालवृद्ध— सभी स्वच्छता अभियान में संवेदनापूर्वक अपना आत्मीय सहयोग दें और इसे अपनी आदत के रूप में आत्मसात् करके भारत को साफ-स्वच्छ तथा गांधीजी के स्वप्न को साकार करें।

Audience of the Book :
This book Useful for Arts & Political Science Students.

Related Political Science Books
x