• संसद में गांव, गरीब, किसान की बात
33% Off

संसद में गांव, गरीब, किसान की बात

By Hukmadev Narayan Yadav more
11 Views
₹270.00 ₹400.00 You will save ₹130.00 after 33% Discount

Add to Wish List

Save extra with 3 Offers

Get ₹ 50 Instant Cashback on the purchase of ₹ 400 or above
SAVE10 Already Applied

NEW50

Get Flat 50% Off on your First Order

Product Specifications

Publisher Prabhat Prakashan
ISBN 9789351863939
Author: Hukmadev Narayan Yadav
Available
Available in all digital devices
  • Snapshot
  • About the book

संसद में गांव, गरीब, किसान की बात by Hukmadev Narayan Yadav
Book Summary:

श्री हुक्मदेव नारायण यादव एक संघर्षशील, संवेदनशील राजनेता, विचारप्रवण एवं गंभीर सांसद हैं। बिहार में विधानसभा और भारतीय संसद्, दोनों ही में उन्होंने अपने व्यक्तित्व की गहरी छाप छोड़ी है।

संसद् में गाँव, गरीब, किसान की बात’ पुस्तक उनके विविध विषयों पर दिए गए उद्बोधनों का संकलन है। संसद् के साथसाथ संसदीय समितियों में भी उन्होंने महत्त्वपूर्ण विचार रखे हैं। संसद् के शून्यकाल में भी उन्होंने लोकमहत्त्व के विविध विषयों पर बोलते हुए सरकार एवं देश के समक्ष रचनात्मक दृष्टिकोण प्रस्तुत किया तथा राष्ट्रहित एवं जनहित की दृष्टि से कठोर आलोचना भी की। हुक्मदेव बाबू के वक्तव्यों में जहाँ डॉ. राम मनोहर लोहिया के विचारों की गहरी छाप है, वहीं एकात्म मानववाद के प्रणेता पं. दीनदयाल उपाध्याय और महात्मा गांधी के सिद्धांतों के सामाजिकआर्थिक पक्ष का भी प्रतिबिंबन होता है। जहाँ वे पिछड़े और दलितों के उत्थान एवं अधिकारों के लिए बड़े आग्रह के साथ बोलते हैं तो वहीं वे दीनदयालजी के समरस समाज के निर्माण का भी पुरजोर समर्थन करते हैं। एक ओर जब वे बाढ़ और सुखाड़ की त्रासदी से पीडि़त जनसमूह के लिए दर्द भरी आवाज उठाते हैं तो दूसरी ओर वे हिमालय की रक्षा के संकल्प का भी भरपूर समर्थन करते हैं। उनके संसदीय वक्तव्यों का पाठन अत्यंत उपयोगी सिद्ध होगा, ऐसा मेरा विश्वास है।

Audience of the Book :
This book Useful for Arts & Political Science Students.

x