लता सुर गाथा

By Yatindra Mishra more
2003 Views
Selling Price : ₹1,076.40
MRP : ₹1,495.00
You will save : ₹418.60 after 28% Discount

Enter your email id to read this ebook
Submit

Save extra with 3 Offers

Get ₹ 50

Instant Cashback on the purchase of ₹ 400 or above
SAVE10 Already Applied

NEW35

Get Flat 35% Off on your First Order

Product Specifications

Publisher Vani Prakashan All Leisure Read books by Vani Prakashan
ISBN 9789350728413
Author: Yatindra Mishra
Number of Pages 628
Available
Available in all digital devices
  • Snapshot
  • About the book
  • Sample book
लता सुर गाथा - Page 1 लता सुर गाथा - Page 2 लता सुर गाथा - Page 3 लता सुर गाथा - Page 4 लता सुर गाथा - Page 5

उनकी आवाज़ से चेहरे बनते हैं। ढेरों चेहरे,जो अपनी पहचान को किसी रंग-रूप या नैन -नक्शे से नहीं, बल्कि सुर और रागिनी के आइनें में देखने से आकार पते हैं। एक ऐसी सलोनी निर्मिती, जिसमे सुर का चेहरा दरअसल भावनाओं का चेहरा बन जाता है। कुछ-कुछ उस तरह,जैसे बचपन में पारियों की कहानियों में मिलने वाली एक रानी परी का उदारता और प्रेम से भीगा हुआ व्यक्तित्व हमको सपनों में भी खुशियों और खिलोंनों से भर देता था। बचपन में रेडियों या ग्रामोफोन पर सुनते हुए किसी प्रणय-गीत या नृत्य की झंकार में हमें कभी यह महसूस ही नही हुआ कि इस बक्से के भीतर कुछ निराले द्गंग से मधुबाला या वहीदा रहमान पियानो और सितार कि धुन पर थिरक रही हैं, बल्कि वह एक सीधी-सादी महिला कि आवाज़ कम झीना सा पर्दा है, जिस पर फूलों का भी हरसिंगार कि पंखुरियों का रंग और धरती पर चंद्रमा कि टूटकर गिरी हुई किरणों का झिलमिल पसरा है। 

Related Leisure Read Books
x

Sold Just Now! 🔥

Ramesh Purchased Legal Aspects Of Business, just now!